कम्प्यूटर वायरस क्या है - What is Computer Virus in Hindi

Welcome :)
कम्प्यूटर वायरस क्या है - 
What is Computer Virus in Hindi

Computer Virus Kya Hota Hai
कम्प्यूटर वायरस क्या है - What is Computer Virus in Hindi




ये एक ऐसा प्रोग्राम होता है, जो खुद बा खुद आपके कंप्यूटर पे अपने आप को संयोजित करता है, एक कम्प्यूटर वायरस एक कंप्यूटर प्रोग्राम (कंप्यूटर प्रोग्राम) है जो अपनी अनुलिपि कर सकता है और उपयोगकर्ता की अनुमति के बिना एक कंप्यूटर को संक्रमित कर सकता है |

और उपयोगकर्ता को इसका पता भी नहीं चलता है. विभिन्न प्रकार के मैलवेयर (मैलवेयर) और एडवेयर (adware) प्रोग्राम्स के संदर्भ में भी "वायरस" शब्द का उपयोग सामान्य रूप से होता है, हालाँकि यह कभी-कभी ग़लती से भी होता है.

मूल वायरस अनुलिपियों में परिवर्तन कर सकता है, या अनुलिपियाँ ख़ुद अपने आप में परिवर्तन कर सकती हैं, जैसा कि एक रूपांतरित वायरस (रूपांतरित वायरस) में होता है. यह नाम सयोग वश बीमारी वाले वायरस से मिलता है मगर ये उनसे पूर्णतः अलग होते है.वायरस प्रोग्रामों का प्रमुख उददेश्य केवल कम्प्यूटर मेमोरी में एकत्रित आंकड़ों व संपर्क में आने वाले सभी प्रोग्रामों को अपने संक्रमण से प्रभावित करना है.



2. डाटा ट्रोजन चोरी (डाटा ट्रोजन चोरी)
3. सुरक्षा अक्षम ट्रोजन (सुरक्षा Disabler ट्रोजन)
4. नियंत्रण परिवर्तक ट्रोजन (नियंत्रण परिवर्तक ट्रोजन)
2. वापस छिद्र (बैक ओरीफ़ाइस)
3. नेट बस (नेट बस)
4. प्रो चूहा (प्रो रैट)
5. लड़की मित्र (गर्ल फ्रेंड)
6. उप आदि सात (सब सेवन ई टी सी)

.

5 .Memory 


वास्तव में कम्प्यूटर वायरस कुछ निर्देशों का एक कम्प्यूटर प्रोग्राम मात्र होता है जो अत्यन्त सूक्षम किन्तु शक्तिशाली होता है. यह कम्प्यूटर को अपने तरीके से निर्देशित कर सकता है. ये वायरस प्रोग्राम किसी भी सामान्य कम्प्यूटर प्रोग्राम के साथ जुड़ जाते हैं और उनके माध्यम से कम्प्यूटरों में प्रवेश पाकर अपने उददेश्य अर्थात डाटा और प्रोग्राम को नष्ट करने के उददेश्य को पूरा करते हैं. 


अपने संक्रमणकारी प्रभाव से ये सम्पर्क में आने वाले सभी प्रोग्रामों को प्रभावित कर नष्ट अथवा क्षत-विक्षत कर देते हैं. वायरस से प्रभावित कोई भी कम्प्यूटर प्रोग्राम अपनी सामान्य कार्य शैली में अनजानी तथा अनचाही रूकावटें, गलतियां तथा कई अन्य समस्याएं पैदा कर देता है. प्रत्येक वायरस प्रोग्राम कुछ कम्प्यूटर निर्देशों का एक समूह होता है जिसमें उसके अस्तित्व को बनाएं रखने का तरीका, संक्रमण फैलाने का तरीका तथा हानि का प्रकार निर्दिष्ट होता है. सभी कम्प्यूटर वायरस प्रोग्राम मुख्यतः असेम्बली भाषा या किसी उच्च स्तरीय भाषा जैसे "पास्कल" या "सी" में लिखे होते हैं.

1. बूट सेक्टर वायरस 
2. फाइल वायरस 
3. अन्य वायरस


एक वायरस एक कंप्यूटर से दूसरे कंप्यूटर में तभी फ़ैल सकता है जब इसका होस्ट एक असंक्रमित कंप्यूटर में लाया जाता है, उदाहरण के लिए एक उपयोगकर्ता के द्वारा इसे एक नेटवर्क या इन्टरनेट पर भेजने से, या इसे हटाये जाने योग्य माध्यम जैसे फ्लॉपी डिस्क (फ्लॉपी डिस्क), सीडी, या यूएसबी ड्राइव पर लाने से. इसी के साथ वायरस एक ऐसे संचिकातंत्र या जाल संचिका प्रमाली (नेटवर्क फाइल सिस्टम) पर संक्रमित संचिकाओं के द्वारा दूसरे कम्पूटरों पर फ़ैल सकता है जो दूसरे कम्प्यूटरों पर भी खुल सकती हों. कभी कभी कंप्यूटर का कीड़ा (कंप्यूटर कीड़ा) और ट्रोजन होर्सेस (ट्रोजन हॉर्स) के लिए भी भ्रमपूर्वक वायरस शब्द का उपयोग किया जाता है. 

एक कीडा अन्य कम्प्यूटरों में ख़ुद फैला सकता है इसे पोषी के एक भाग्य के रूप में स्थानांतरित होने की जरुरत नहीं होती है, और एक ट्रोजन होर्स एक ऐसी फाईल है जो हानिरहित प्रतीत होती है. कीडे और ट्रोजन होर्स एक कम्यूटर सिस्टम के आंकडों, कार्यात्मक प्रदर्शन, या कार्य निष्पादन के दौरान नेटवर्किंग को नुकसान पहुंचा सकते हैं. सामान्य तौर पर, एक कीड़ा वास्तव में सिस्टम के हार्डवेयर या सॉफ्टवेयर को नुकसान नहीं पहुंचाता, जबकि कम से कम सिद्धांत रूप में, एकट्रोजन पेलोड, निष्पादन के दोरान किसी भी प्रकार का नुकसान पहुँचने में सक्षम होता है. जब प्रोग्राम नहीं चल रहा है तब कुछ भी नहीं दिखाई देता है लेकिन जैसे ही संक्रमित कोड चलता है,

ट्रोजन होर्स प्रवेश कर जाता है.यही कारण है कि लोगों के लिए वायरस और अन्य मैलवेयर को खोजना बहुत ही कठिन होता है और इसीलिए उन्हें स्पायवेयर प्रोग्राम और पंजीकरण प्रक्रिया का उपयोग करना पड़ता है. एक कंप्यूटर वायरस खुद को ये एक कंप्यूटर प्रोग्राम होता है कॉपी करता हैं. ये उपयोगकर्ता की अनुमति या जानकारी के बिना उसके कंप्यूटर को संक्रमित कर सकते ये अपने मेजबान (असंक्रमित कंप्यूटर) पर ले जाये जाते ही केवल एक कंप्यूटर से दूसरे में फैल सकता है, ये एक फाइल सिस्टम पर फ़ाइलों को संक्रमित होने से अन्य कंप्यूटरों में फैल सकता है. वायरस स्वयं को न खोज पाने के लिए और कम्प्यूटर कार्यक्रमों को बर्बाद करने के लिए ही बनाए जाते है. इसके अलावा, कुछ सूत्रों का कहना है कि कुछ वायरस को, वायरस फ़ाइलों को हटाने, या हार्ड डिस्क reformatting का ही इन्तज़ार रहता है 


क्योंकि ये, इसी के लिए ही बनाए जाते है, और ये हानिकारक कार्यक्रमों से कंप्यूटर को क्षति पहुँचाने के लिए बनाए जाते हैं कुछ मेलवेयर, विनाशकारी प्रोग्रामों, संचिकाओं को डिलीट करने, या हार्ड डिस्क की पुनः फ़ॉर्मेटिंग करने के द्वारा कंप्यूटर को क्षति पहुचाने के लिए प्रोग्राम किए जाते हैं. अन्य मैलवेयर प्रोग्राम किसी क्षति के लिए नहीं बनाये जाते हैं, लेकिन साधारण रूप से अपने आप को अनुलिपित कर लेते हैं शायद कोई टेक्स्ट, वीडियो, या ऑडियो संदेश के द्वारा अपनी उपस्थिति को दर्शाते हैं.


यहाँ तक की ये कम अशुभ मैलवेयर प्रोग्राम भी कंप्यूटर उपयोगकर्ता (कंप्यूटर उपयोगकर्ता) के लिए समस्याएँ उत्पन्न कर सकते हैं .. वे आमतौर पर वैध कार्यक्रमों के द्वारा प्रयोग की जाने वाली कम्प्यूटर की स्मृति (कंप्यूटर स्मृति) को अपने नियंत्रण में ले लेते हैं.इसके परिणाम स्वरूप, वे अक्सर अनियमित व्यवहार का कारण होते हैं और सिस्टम को नुकसान पहुंचाते हैं. इसके अतिरिक्त, बहुत से मैलवेयर बग (बग) से ग्रस्त होते हैं, 


और ये बग सिस्टम को नुक्सान पंहुचा सकते हैं या डाटा क्षति (डेटा हानि) का कारण हो सकते हैं. कई सीआईडी ​​प्रोग्राम ऐसे प्रोग्राम हैं जो उपयोगकर्ता द्वारा डाउनलोड किए गए हैं और हर बार पॉप अप किए जाते हैं. इसके परिणाम स्वरुप कंप्यूटर की गति बहुत कम हो जाती है लेकिन इसे ढूंढ़ना और समस्या को रोकना बहुत ही कठिन होता है. .ये वायरस कंप्यूटर उपयोगकर्ता के लिए समस्या पैदा कर सकते हैं सिस्टम क्रैश हो सकता है. 


इसके अलावा, कई फाइलें वायरस बग से ग्रस्त हो सकती हैं, और इन बगं प्रणाली के कारण आपका कम्प्यूटर दुर्घटनाओं और डेटा हानि का कारण बन सकता है एक कंप्यूटर वायरस खुद को दोहराने का कार्य भी कर सकता हैं ||


मुख्य वायरस दो प्रकार के होते हैं:



1: फ़ाइल फैक्टर .... (फ़ाइल फेक्टर), 

2: बूट वायरस .... (बूट वायरस)

1: फ़ाइल फैक्टर .... (फ़ाइल फेक्टर) ये वायरस कंप्यूटर में फ़ाइल के पते को बदल देते है


2: बूट वायरस ...

(बूट वायरस) ये ऐसा वायरस है जो कि सिस्टम बायोज पर असर डालता है, व खराब करता है, जिसकी वजह से कंप्यूटर के हार्डवेयर काम करना छोड़ने लगते है, और malwares कई प्रकार के होते हैं और विस्तार में उन सभी को परिभाषित करना बहुत मुश्किल है, और समझना भी, इसलिए यहाँ मैं संक्षिप्त में इन में से कुछ समझा रहा हूँ: -


1. ट्रोजन हॉर्स (ट्रोजन हॉर्स): 


एक ट्रोजन बड़ी गुपचुप तरीके से आप के कंप्यूटर सिस्टम को संक्रमित कर देगा जो एक दुर्भावनापूर्ण प्रोग्राम है. ट्रोजन अन्य कार्यक्रमों सबसे ऊपर आता है और उपयोगकर्ता के ज्ञान के बिना एक सिस्टम पर स्थापित हो जाता है ट्रोजन्स आपके सिस्टम पर एक लक्ष्य बनाकर हैकिंग सॉफ्टवेयर स्थापित करं और उस प्रणाली तक हैकर की पहुँच बनाने और बनाए रखने में, हैकर की सहायता करने के लिए इस्तेमाल किया व बनाया जाता है. ट्रोजन में कई भिन्न प्रकार होते हैं, 

इनमें से कुछ: -



1. दूरस्थ प्रशासन ट्रोजन (दूरस्थ प्रशासन ट्रोजन)


कुछ प्रसिद्ध ट्रोजन:




1. जानवर (बीस्ट)



2 .Boot


 क्षेत्र के वायरस (सेक्टर वायरस बूट): ये एक ऐसा वायरस है जो कि बूटिंग के समय में कंप्यूटर के द्वारा पढ़ा जाता है कि सिस्टम बूट फ़ाइलों को ही देख़ता है. ये आम तौर पर फ्लॉपी डिस्क के जरिये फैलता हैं.


3 .Macro


वायरस (मैक्रो वायरस): मैक्रो वायरस खुद को वितरित करने के लिए बनाए जाते है ये एके मैक्रो प्रोग्रामिंग भाषा का उपयोग करने वाले वायरस होते हैं. वे ऐसे एमएस वर्ड या एमएस एक्सेल के रूप में दस्तावेजों को संक्रमित कर देते हैं और आम तौर पर इसी तरह की अन्य दस्तावेजों में अपनी प्रोग्रामिंग भाषा फैला देते हैं.


4 .Worms (वोर्म्स):


वोर्म्स एक कीड़ा बना देता है और खुद की प्रतियों के वितरण की सुविधा देता है जो कि एक कार्यक्रम होता है.
उदाहरणार्थ एक डिस्क ड्राइव से दूसरे, या ईमेल का उपयोग कर अपने आप को कॉपी करने के लिए कार्यक्रम होता है. यह प्रणाली भेद्यता के शोषण के माध्यम से या एक संक्रमित ई - मेल पर क्लिक करके आ सकता है वोर्म्स यानी कीड़े का सबसे सामान्य स्रोत नकली ईमेल या ईमेल संलग्नक हैं

निवासी वायरस (मेमोरी रेजिडेंट वायरस): मेमोरी रेजिडेंट वायरस एक कंप्यूटर में अस्थिर स्मृति (रैम) में जाकरें रहते हैं. वे जब एक प्रोग्राम कंप्यूटर पर चलता है तो ये भी उसी के साथ चलते हैं और शुरुआत में ही प्रोग्राम बंद करके बाद में स्मृति में रह जाते हैं.


6 .Rootkit वायरस (रूटकिट वायरस):


एक रूटकिट वायरस किसी एक कंप्यूटर प्रणाली का नियंत्रण हासिल करने के लिए, अनुमति देने के लिए बनाया जाता है जो कि एक undetectable वायरस है. रूटकिट वायरस लिनक्स व्यवस्थापक जड़ उपयोगकर्ता से आता है. ये वायरस आमतौर पर ट्रोजन द्वारा भी स्थापित होता हैं. 


If You Like कम्प्यूटर वायरस क्या है - What is Computer Virus in Hindi.
Follow Us.
Stay Connected With NEtechY
Sponsored By StoryBookHindi

No comments

Powered by Blogger.